India News

राहत की पहली किस्‍त में मिडिल क्‍लास को क्‍या मिला? – Relief for Middle Class

Relief for Middle Class – बुधवार को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने पहली किस्‍त में करीब 6 लाख करोड़ के राहत पैकेज का ऐलान किया. ये कुल 20 लाख करोड़ के पैकेज का एक हिस्‍सा है। जिसकी घोषणा खुद पीएम नरेंद्र मोदी ने की थी। लेकिन सवाल है कि इस पैकेज में देश के मिडिल क्‍लास के लिए क्‍या था। आइए विस्‍तार से जानते हैं।

राहत की पहली किस्‍त में मिडिल क्‍लास को क्‍या मिला? - Relief for Middle Class

5 big Announcements Relief for Middle Class

सबसे बड़ी राहत टैक्‍स

मिडिल क्‍लास को सरकार ने सबसे बड़ी राहत टैक्‍स के मोर्चे पर दी है। सरकार ने वित्त वर्ष 2019-20 के लिए सभी आयकर रिटर्न भरने की समयसीमा 31 जुलाई 2020 और 31 अक्टूबर 2020 से बढ़ाकर 30 नवंबर 2020 कर दी है।


विवाद से विश्वास योजना

इसके अलावा टैक्‍स से जुड़े विवादों को निपटाने के लिए ‘विवाद से विश्वास योजना’ की डेडलाइन 31 दिसंबर 2020 तक के लिए बढा दिया गया है।

मतलब ये कि अगर आपका डायरेक्ट टैक्स (इनकम टैक्स) से जुड़ा कोई विवाद है तो बिना किसी अतिरिक्त शुल्क के 31 दिसंबर 2020 तक निपटारा कर सकते हैं। इन फैसलों का देश के करोड़ों टैक्‍सपेयर्स को फायदा मिलने वाला है।

लेटेस्ट न्यूज पाने के लिए हमारी टेलीग्राम चैनल से जुड़े


पीएफ कंट्रीब्‍यूशन

सरकार ने कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) के तहत आने वाले सभी नियोक्ताओं और कर्मचारियों के पीएफ कंट्रीब्‍यूशन को क्रमश: 2-2 फीसदी कम कर दिया गया है। अब अगले तीन माह तक कर्मचारी अपने मूल वेतन का 12 फीसदी की बजाए सिर्फ 10 फीसदी कंट्रीब्‍यूशन देंगे।

इसी तरह, कंपनियों को भी 12 फीसदी की बजाए 10 फीसदी का सहयोग देना होगा। इस फैसले से लोगों की टेक होम सैलरी में इजाफा होगा और कोरोना संकट काल में जेब में अधिक पैसे बचेंगे। सरकार के इस फैसले से 4 करोड़ से अधिक लोगों को राहत मिलेगी। लेकिन बचत के लिए झटका भी है।


TDS में 25 फीसदी की कटौती

टीडीएस की दर में भी 25 फीसदी की कटौती कर दी गई है। उदाहरण के तौर पर देखे तो अगर किसी का 100 रुपये का TDS बनता है तो उसे 75 रुपये ही देने होंगे। यानी अब टैक्सपेयर्स की जेब में कुछ अतिरिक्‍त पैसे पहुंचेंगे। इसका फायदा हर तरह के ट्रांजैक्शन पर उठाया जा सकता है।

मसलन, कॉन्ट्रैक्ट, प्रोफेशनल्स फीस, इंट्रेस्ट, रेंट, डिविडेंड, कमिशन, ब्रोकरेज जैसी कमाई पर लगने वाले टैक्स पर राहत मिलेगी। TDS दरों में कमी 13 मई से ही लागू हो गई है और मार्च 2021 तक रहेगी। टीडीएस कटौती से लोगों को 55 हजार करोड़ रुपये का लाभ होगा। बता दें कि टैक्‍सपेयर्स की सैलरी में से TDS कटौती की जाती है। इसके जरिए सरकार पैसे जुटाती है।


पेंडिंग टैक्‍स रिफंड

वित्त मंत्री ने एक अन्य घोषणा में कहा कि सरकार जल्‍द से जल्‍द पेंडिंग टैक्‍स रिफंड लौटा देगी। इससे पहले सरकार 5 लाख रुपये तक के 18 हजार करोड़ रुपये तक रिफंड टैक्‍सपेयर्स को लौटा चुकी है।


Final Words

आपको Relief for Middle Class के सबंधित जानकारी कैसी लगी। निचे कमेंट करके अपनी राय जरुर दे। साथ ही इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करे। ताकि आपके दोस्त और फॅमिली भी इसके बारे में जान सके।


आप हमें Facebook और Twitter फॉलो कर सकते है। लेटेस्ट न्यूज पाने के लिए हमारी Telegram Channel को भी JOIN करो।

Leave a Comment